प्राणघातक व्यसन

प्राणघातक व्यसन

Read Scan Version
  |     | |     |  
गायत्री महामंत्र का उन्नीसवाँ अक्षर 'यो' हमको हानिकारक दुर्व्यसनों से बचने की शिक्षा देता है -

यो-योजनं व्यसनेभ्य: स्यात्तानि पुंसस्तु शत्रवः । मिलित्वैतानि सर्वाणि समये घ्नन्ति मानवम् ।।

अर्थात- ''व्यसनों से कोसों दूर रहें, क्योंकि वे प्राणघातक शत्रु हैं ।'' व्यसन मनुष्य के वास्तविक प्राणघातक शत्रु हैं । इनमें मादक पदार्थ प्रधान हैं । तंबाकू, चाय, गाँजा, चरस, भाँग, अफीम, शराब आदि नशीली चीजें एक से एक बढ़कर हानिकारक हैं । जैसे थके हुए घोड़े को चाबुक मारकर दौड़ाते हैं, परंतु अंत में उससे घोड़े की बची-खुची शक्ति भी नष्ट हो जाती है, उसी प्रकार नशा पीने से आरंभ में तो कुछ फुरती सी दिखलाई पड़ती है, परंतु परिणाम- स्वरूप उससे रही-सही शक्ति भी जाती रहती है । मादक द्रव्यसेवन करने वाला व्यक्ति दिन-दिन क्षीण होते-होते अकाल मृत्यु के मुख में चला जाता है । व्यसन मित्र के रूप में हमारे शरीर में घुसते हैं और शत्रु बनकर उसे मार डालते हैं ।

नशीले पदार्थों के अतिरिक्त और भी ऐसी आदतें हैं जो शरीर और मन को हानि पहुँचाती हैं, पर आकर्षण और आदत के कारण मनुष्य उनका गुलाम बन जाता है । सिनेमा, नाच-रंग, व्यभिचार, जुआ आदि कितनी ही हानिकारक एवं अप्रतिष्ठाजनक आदतों में लोग फँस जाते हैं और अपना धन, समय तथा स्वास्थ्य बरबाद कर डालते हैं ।

ये दुर्व्यसन कुछ थोड़े से व्यक्तियों के जीवन को ही नष्ट नहीं करते, वरन बड़े- बड़े देश, राष्ट्र, जनसमुदाय इनके कारण सर्वनाश के गड्ढे में गिर जाते हैं । जैसा भारतीय इतिहास के पाठक जानते हैं कि मुगल साम्राज्य का मूलोच्छेद शराबखोरी के कारण ही हुआ । इसी प्रकार चीन का राष्ट्र अफीमखोरी के कारण नष्ट हो गया । पुराने जमाने में भी मिश्र, यूनान और रोम के उन्नतिशील एवं शक्तिशाली राष्ट्र मद्य के फंदे में फँसकर पतन के गर्त में गिर चुके हैं । हमारे प्राचीन इतिहास में यादवों का शक्तिशाली राज्य मद्यपान के व्यसन के कारण ही नष्ट हो गया और श्रीकृष्ण जैसे लोकोत्तर पुरुष भी उसकी रक्षा न कर सके । यही कारण है कि हिंदू धर्मशास्त्रों में सुरापान की गिनती महापातकों में की गई है ।

ब्रह्महत्यां, सुरापानं स्तेयो गुर्वङ्गनागमः । महान्तिपात कान्याहु: संसर्गश्चापितैः सह । ।
-मनुस्मृति ११/५४/

अर्थात- ''ब्रह्मघाती, मद्यप, चोर, गुरुपत्नी में गमन करने वाला ये सभी महापातकी और निंदित हैं, इनका परित्याग कर देना चाहिए ।''


  |     | |     |  

Write Your Comments Here: