प्रज्ञा परिजनों में नव जीवन संचार

विनिर्मित प्रज्ञापोठों, गठित प्रज्ञा मडलों, अगणित प्रभा पुत्रों और लाखों अखण्ड ज्योति परिजनों में से प्रत्येक को, इस पुस्तिका में प्रस्तुत प्रतिवेदन पढ़ना और अन्यों तक पहुँचाना चाहिए । प्रत्येक को यह समझना समझाया जाना चाहिए कि उनका इस महान परिर्वतन की बेला में कुछ विशेष कर्त्तव्य है । पंचसुत्री योजना के रूप में कुछ कर्त्तव्यों को कहीं दिनों अपनाया जाना चाहिए, शेष को समय-समय पर उनकी उभरती हुई श्रद्धा एवं तत्परता के आधार पर प्रस्तुत किया जाता रहेगा ।…

Write Your Comments Here: