उपासना, साधना व आराधना

देवियो, भाइयो! गायत्री मंत्र तीन टुकड़ों में बँटा हुआ है । आध्यात्मिक साधना का सारा का सारा माहौल तीन टुकड़ों में बँटा हुआ है । ये हैं उपासना, साधना और आराधना । उपासना के नाम पर आपने अगरबत्ती जलाकर और नमस्कार करके उसे समाप्त कर दिया होगा, परंतु हमने ऐसा नहीं किया । हमने अगरबत्ती जलाकर प्रारंभ तो अवश्य किया है, परंतु समाप्त नहीं किया । हमने अपने जीवन में अध्यात्म के जो भी सिद्धांत हैं, उन्हें अवश्य धारण करने का प्रयास किया है ।

त्रिवेणी में स्नान करने की बात आपने सुनी होगी कि उसके बाद कौआ, कोयल बन जाता है । हमने भी उस त्रिवेणी संगम में स्नान किया है, जिसे उपासना, कहते हैं । वास्तव में यही अध्यात्म की असली शिक्षा है । उपासना माने भगवान के नजदीक बैठना । नजदीक बैठने का भी एक असर होता है । चंदन के समीप जो पेड़-पौधे होते हैं, वह भी सुगंधित हो जाते हैं । हमारी भी स्थिति वैसी ही हुई । चंदन का एक बड़ा सा पेड़, जो हिमालय में उगा हुआ है, उससे हमने संबंध जोड़ लिया और खुशबूदार हो गए ।

Write Your Comments Here: