सुख चाहे तो यों पाये

खिन्न नहीं प्रसन्न रहा कीजिये

<<   |   <   | |   >   |   >>
<<   |   <   | |   >   |   >>

Write Your Comments Here:


Page Titles