सच्ची आस्तिकता अपनायें

जड़ पदार्थों का निर्माण एवं संचालन चेतन तत्त्व द्वारा होता है । संसार में जितनी भी निर्जीव वस्तुएं गतिशील दिखाई पड़ती है, उनका संचालन चेतन प्राणियों द्वारा होता है । रेल, जहाज, मोटर, बैलगाड़ी, मशीनें, तार, रेडियो, आदि में जो हलचल दिखाई देती है वह मनुष्यकृत है । मनुष्य या पशुओं द्वारा यदि प्रयत्न-परिश्रम न किया जाय तो कृषि, उद्योग, परिवहन, शिक्षा, विज्ञान आदि में जो हलचलें दिखाई देती हैं, ये कहीं भी दिखाई न दें । जड़ पदार्थों का अस्तित्व तो हैं पर वे निर्जीव होने के कारण हलचल नहीं कर सकते । शरीरों को ही लीजिए, कितने उपयोगी और आश्चर्यजनक कार्य वे करते हैं, पर यदि प्राण निकल जाए तो सुन्दर और समर्थ देह भी निचेष्ट होकर सड़ने लग जाती है ।

Write Your Comments Here: