कुछ धार्मिक प्रश्नों का उचित समाधान

प्रमुख धर्मिक प्रश्नों का उचित समाधान आदेश बनाम विवेक सिद्धांतों का परीक्षण करना आवश्यक है क्योंकि परस्पर विरोधी सिद्धांतों का सर्वत्र अस्तित्व प्राप्त होता है । एक ओर जहां हिंसा को, बलिदान या कुर्बानी को, धर्मों में समर्थन प्राप्त है, वहां ऐसे भी धर्म हैं जो जीवों की हत्या तो उन्हें कष्ट पहुंचाना भी पाप समझते हैं । इसी प्रकार ईश्वर, परलोक, अहिंसा, पवित्र अवतार, पूजा विधि, कर्मकाण्ड, देवता आदि विषयों के मतभेदों से भरे पड़े हैं । सामाजिक क्षेत्रों में वर्णभेद, स्त्री अधिकार, शिक्षा, रोटी, बेटी आदि प्रश्रों के सम्बन्ध में परस्पर विरोधी विचारों की प्रबलता है । राजनीति में प्रजातन्त्र, साम्राज्यवाद, पूंजीवाद, अधिनायकवाद, समाजवाद आदि अनेक प्रकार की परस्पर विरोधी विचारधाणऐं काम कर रही हैं । उपरोक्त सभी प्रकार की विचारधाराऐं आपस में खूब टकराती भी है । उनके समर्थक और विरोधी व्यक्तियों की संख्या भी कम नहीं है । जबकि सिद्धांतों में इस प्रकार के घोर मतभेद विद्यमान हैं तो एक निष्पक्ष जिज्ञासु के लिए, सत्य शोधक के लिए उनका परीक्षण आवश्यक है । जब तक यह परख न लिया जाय कि किस पक्ष की बात सही है, किसकी गलत-तब तक सत्य के समीप तक नहीं पहुंचा जा सकता । यदि परीक्षा और समीक्षा को आधार न बनाया जाय तो

Write Your Comments Here: